Bakrid 2018: आने वाली है बकरीद, Animal markets में बदला माहौल

घाटी के सभी कस्बों में मवेशी दुकानों पर भीड़ है लेकिन श्रीनगर का ईदगाह का मैदान सबसे बड़ा मवेशी बाजार है.

  |  Updated: August 20, 2018 15:28 IST

Reddit
bakrid eid al adha 2018 Animal markets bustling in Kashmir Valley ahead of Animal markets bustling in Kashmir Valley ahead of Eid..

कश्मीर में ईद-उल-जुहा (Bakrid 2018) के मद्देनजर रविवार को मवेशी बाजार खरीदारों की भीड़ से पटा पड़ा है. बुधवार को ईद-उल-जुहा (Happy Bakrid 2018) के मद्देनजर इस बाजार में लोगों का तांता लगा है. इस दिन दुनियाभर के मुसलमानों द्वारा बकरे की कुर्बानी देने की परंपरा है, जिसे बकरीद भी कहा जाता है. (Bakrid 2018 Celebration) घाटी के सभी कस्बों में मवेशी दुकानों पर भीड़ है लेकिन श्रीनगर का ईदगाह का मैदान सबसे बड़ा मवेशी बाजार है.



कुर्बानी के लिए जिन जानवरों का इस्तेमाल किया जाता है उनमें भेड़, बकरे शामिल हैं और कहीं-कहीं पर ऊंटों की कुर्बानी दी जाती है. राज्य सरकार ने इन कुर्बानी वाले जानवरों के लिए कीमत तय की है लेकिन इस पर लोग अधिक गौर नहीं करते. 



एक तंदरुस्त भेड़ की कीमत 5,000 से लेकर 12,000 रुपये के बीच हो सकती है.कुर्बानी के जानवरों के अलावा कश्मीरियों में बेकरी के उत्पाद भी खासे लोकप्रिय हैं. ईद के त्योहार पर परिवार के लिए बेकरी के सामान खरीदना घाटी में एक रिवाज बन गया है. 



श्रीनगर में प्रसिद्ध बेकरी ईद पर लाखों रुपये के केक, पेस्ट्री और बिस्कुट बेचती हैं. ईद पर अन्य जरूरी चीजों में नए कपड़े और पटाखे शामिल हैं. 



Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

ईद-उल-फितर के विपरीत ईद-उल-जुहा पर कसाई की दुकानों पर लोग काफी कम नजर आते हैं क्योंकि ईद-उल-जुहा पर पड़ोसी, रिश्तेदार और दोस्त घर-घर जाकर कुर्बानी का गोश्त बांटते हैं.

और खबरों के लिए क्लिक करें.

Comments

NDTV Food Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं ताजा फूड खबरें , चटपटे जायके, हेल्थ टिप्स, ब्यूटी के कारगर नुस्खे और टिप्स और फूड एंड ड्रिंक से जुड़ी खबरें भी.

Advertisement
ताजा लेख
Advertisement