#WeightLoss: वजन बढ़ाने ही नहीं घटाने में भी मदद करती है दही! जानें कैसे

कैल्शियम हमारे शरीर में हीट प्रोसेस यानी थर्मोजेनेसिस की प्रक्रिया को तेज कर देता है जिससे हमारा मेटाबॉलिज्म बेहतर होता है.

एनडीटीवी फूड  |  Updated: August 08, 2018 17:55 IST

Reddit
Can Curd Help Promote Weight Loss? We Have Got The Answer!

दही में कुछ तो खास है कि वो हर भारतीय किचन का एक बेहद अहम हिस्सा है. रायता से लेकर कई तरह की ग्रेवीस, छांछ, और दही चावल तक दही की विभिन्नता ने कई पीढ़ियों से शेफ और कुक्स की कई कल्पनाओं को साकार किया है. बहुत सारे स्वास्थ्य लाभों से परिपूर्ण होने के कारण दही कई न्यूट्रीशनिस्ट और फिटनेस के दीवानों के बीच खासी पसंद की जाती है. दही हमारे स्वास्थ्य के लिए जरूरी कई विटामिन और मिनरल्स का खजाना होती है. दही में कैल्शियम, विटामिन बी-2, बी-12, पोटेशियम और मैग्नीशियम मौजूद होते हैं जो इसे इतना स्वास्थ्यवर्धक बनाते हैं. दही हमारी हड्डियों को मजबूत करने, पाचन क्रिया बेहतर करने, कोलेस्ट्रोल को संतुलित करने और हाई ब्लड प्रेशर को काबू में लाने में काफी मदद करती है. इसके अलावा ये ठंडक भी प्रदान करती है. और केवल इतना ही नहीं, रोजान एक कटोरी दही आपका वजन कम करने में आपकी सहायता कर सकती है.

Nutrition In Olive Oil: गजब के हेल्‍थ बेनिफिट देता है ऑलिव ऑयल

curd

 

1. प्रोटीन से भरपूरः

दही एक डेयरी प्रोडक्ट है और हम सब जानते हैं कि डेयरी प्रोडक्ट प्रोटीन से भरपूर होते हैं. USDA के अनुसार 28 ग्राम ग्रीक योगर्ट में करीब 12 ग्राम प्रोटीन होता है. ग्रीक योगर्ट या हंग कर्ड आम दही का ही विकृत रूप होता है जो दही में से अतिरिक्त पानी निकालने के बाद तैयार होता है. वजन कम करने के लिए दही से ज्यादा तवज्जो हंग कर्ड को ही दी जाती है. प्रोटीन हमें लम्बे समय तक तृप्त रखता है जिससे की हम अन्य वसायुक्त आहारों की तरफ ना जाएं.

Monsoon Eating: जानिए भुट्टा खाने के बाद क्‍यों नहीं पीना चाहिए पानी

curd rice

 

2. पाचनक्रिया में सहायताः

दही में काफी मात्रा में प्रो-बायोटिक तत्व मौजूद होते हैं जो हमारी पाचनक्रिया ठीक रखते हैं और पेट खराब होने की शिकायत से भी निजात दिलाते हैं. दही में मौजूद लाभदायक बैक्टीरिया हमारी आंतों के बेहतर परिचालन में काफी मदद करते हैं. खराब पाचन हमारा वजन बढ़ाने में एक कारक हो सकता है क्योंकि ऐसे में हम न्यूट्रीयेन्टस को ठीक से खा-पचा नहीं पाते. और अगर हमारे शरीर में से वेस्ट प्रोडक्ट ठीक से बाहर नहीं निकलता तो इसका हमारे स्वास्थ्य पर काफी बुरा प्रभाव हो सकता है.

Monsoon Eating: जानिए भुट्टा खाने के बाद क्‍यों नहीं पीना चाहिए पानी

3. कैल्शियम से परिपूर्णः

दही में कैल्शियम प्रचूर मात्रा में उपलब्ध होता है. क्या आप जानते हैं कि 100 ग्राम दही में 80 मिलीग्राम कैल्शियम मौजूद होता है. कैल्शियम की प्रचूरता ना केवल हमारी हड्डियों और दांतो को मजबूत करती है बल्कि वजन कम करने में भी हमारी सहायता करती है. कई शोधों में ये बात सामने आई है कि कैल्शियम हमारे शरीर में हीट प्रोसेस यानी थर्मोजेनेसिस की प्रक्रिया को तेज कर देता है जिससे हमारा मेटाबॉलिज्म बेहतर होता है.

Chandra Grahan 2018: क्या है 'ब्लड मून', इसका समय, महत्व और इस दौरान खाने से जुड़ी सावधानियां...

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

जैसा कि हमने पहले ही इस बात का जिक्र किया कि हम दही को कई प्रकार से ग्रहण कर सकते हैं. जो लोग रायता पसंद करते हैं वो अलसी के बीज का रायता बना कर उसका सेवन कर सकते हैं. अलसी के बीज या फ्लैक्स सीड्स औमेगा-3 फैटी एसिड का एक बड़ा स्रोत होता हैं जो आपकी इम्यूनिटी बढ़ाने में सहायक होते हैं. साथ ही ये दिल के रोगों से भी आपको बचाते हैं और वजन कम करने में भी आपकी मदद करते हैं. 

और खबरों के लिए क्लिक करें.

Comments

NDTV Food Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं ताजा फूड खबरें , चटपटे जायके, हेल्थ टिप्स, ब्यूटी के कारगर नुस्खे और टिप्स और फूड एंड ड्रिंक से जुड़ी खबरें भी.

Advertisement
ताजा लेख
Advertisement