Happy Women’s Day: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 2020 पर जानें तनाव को दूर कर कैसे अपने दिल का रखें ख्याल

International Women's Day 2020: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस जिसे इंग्लिश में इंटरनेशनल वुमन्स डे (International Women's Day) कहा जाता है, हर साल की 8 मार्च को मनाया जाता है. दुनियाभर में देश अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस को अपने-अपने तरीके से सेलेब्रेट (Ways to Celebrate International Women's Day) करते हैं.

   |  Updated: March 07, 2020 19:20 IST

Reddit
Happy Women’s Day: When is International Women's day 2020: Relieve Your Stress And Keep Your Heart Healthy, Women's Health - Fitness, Nutrition, Sex, and Weight Loss

Women's Day: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस को जिसे इंग्लिश में इंटरनेशनल वुमन्स डे (International Women's Day) कहा जाता है.

Highlights
  • अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (Women's Day) हर साल की 8 मार्च को मनाया जाता है
  • हर साल अंतरराष्ट्रीय मह‍िला द‍िवस पर एक थीम तय की जाती है.
  • साल 2019 के अंतरराष्ट्रीय महिला द‍िवस की थीम है #BalanceforBetter.

International Women's Day 2020: अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस जिसे इंग्लिश में इंटरनेशनल वुमन्स डे (International Women's Day) कहा जाता है, हर साल की 8 मार्च को मनाया जाता है. दुनियाभर में देश अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस को अपने-अपने तरीके से सेलेब्रेट (Ways to Celebrate International Women's Day) करते हैं. यह दिन महिलाओं के प्रति सम्मान और प्यार प्रकट करता है और इस दिन का महत्व मह‍िलाओं को आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक स्तर पर पहचान द‍िलाना और महिलाओं की उपलब्धियों को मनाना है. हर साल अंतरराष्ट्रीय मह‍िला द‍िवस पर एक थीम (International Women's Day Theme 2020) तय की जाती है. इस मौके पर महिलाओं में बढ़ते तनाव (Stress) पर बात कर लेना भी लाजमी है. अक्सर लोगों को कहते देखा गया है कि महिलाओं में सहनशीलता का अभाव होता है. लेकिन अगर महिलाओं की ही नज़र से देखा जाए, तो वह पुरुषों से कहीं ज़्यादा सहनशील होती हैं. ऑफिस और घर को एक साथ संभालने के साथ ही बच्चों को भी अपना समय देना कोई आसान नहीं होता. अपने इस व्यस्त शेड्यूल में वह सभी के लिए समय निकाल लेती हैं, लेकिन खुद को अनदेखा कर देती हैं. तो इस अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (International Women's Day 2020) पर खुद से करें वादा, अच्छी सेहत के ल‍िए प्रयास करने का. और सेहतमंद रहना कैसे हैं इसके लि‍ए आप फूड एनडीटीवी की वेबसाइट पर पा सकती हैं सेहत से जुड़ी हर जानकारी. 

Newsbeep

International Women's Day 2020: खुद से करें सेहत का वादा, 20, 30, 40 या इससे ज्यादा उम्र की महिलाएं इन 6 फलों को न करें इग्नोर...




Woman's Day: Health Tips for Women: बच्चों से लेकर हसबैंड और परिवार के सभी लोगों की हेल्थ का ध्यान रखना तो वे जरूरी समझती हैं, लेकिन अपनी हेल्थ का नहीं. इसी कारण देखा गया है पिछले एक दशक में महिलाओं के लिए हृदयरोग मृत्यु का सबसे प्रमुख कारण बन कर उभरा है. यह एक आम गलतफहमी है कि हृदयरोग सिर्फ पुरुषों को होते हैं, लेकिन हकीकत है कि हृदय रोग से होने वाली मृत्यु में महिलाओं की संख्या पुरुषों की तुलना में ढाई गुना ज्यादा है. महिलाओं में हृदय रोग की समस्याएं 10 साल देरी से शुरू होती हैं, लेकिन उनमें दिल का दौरा ज्यादा तेज होता है. 






तनाव और शराब है मुख्य कारण



महिलाओं में बढ़ रहे इन सब का कारण उनमें बढ़ता तनाव है. एक शोध के अनुसार, नियमित रूप से होने वाला तनाव महिलाओं के हृदय पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है. निष्कर्षों के अनुसार, हर साल करीब 47 प्रतिशत महिलाओं और 38 प्रतिशत पुरुषों की हृदय रोग से मृत्यु होती है. जिन महिलाओं में एचडीएल का स्तर कम है. पटपड़गंज के मैक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल से डॉ. मनोज कुमार बताते हैं कि ज़्यादा तनाव, सुस्त जीवनशैली, खराब खुराक और धूम्रपान और शराब का सेवन, कोलेस्ट्रॉल और हाई ब्लड प्रेशर की समस्या, अनहेल्दी फूड, एक्सरसाइज़ न करना 21वीं सदी की महिलाओं में हृदयरोग के जोखिम का प्रमुख कारण है. है. यही नहीं, ऐसी महिलाओं में हृदयरोग से होने वाली मौत का खतरा ज्यादा होता है. 





ध्रूम्रपान और गर्भनिरोधक गोली का सेवन करने वाली महिलाओं में हृदयरोग होने की संभावना अन्य महिलाओं से 20 प्रतिशत ज्यादा होती है. इसलिए महिला दिवस से बेहतर कोई मौका नहीं है, जब महिलाएं बेहतर जीवनशैली अपनाने के लिए खुद को प्रेरित कर सकती हैं. 



International Women's Day 2020: महिलाओं को बेहद तनाव झेलना पड़ता है.


आज से ही शुरू करें मेडिटेशन और योग (Start Yoga From This International Women's Day)

गुड़गांव के आर्टेमिस हॉस्पिटल से कार्डियॉलॉजिस्ट के सीनियर कंसल्टेंट डॉ. अमित भूषण शर्मा कहते हैं कि महिलाएं घरेलू कामकाज और परिवार की देखभाल के लिए जानी जाती हैं. लेकिन इन सब की वजह से उन्हें बेहद तनाव झेलना पड़ता है, जो महिलाएं धूम्रपान और शराब का सेवन करती हैं, अस्वस्थ आहार लेती हैं और व्यायाम नहीं करती हैं, उनमें हृदय रोग, हाइपरटेंशन और डाइबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है. गहरी सांस क्रियाएं, मेडिटेशन और योग, तनाव को कम करने में मदद करता है. 





55 साल से अधिक उम्र की महिलाएं जिनमें एलडीएल का स्तर ज्यादा है. हाइपरटेंशन से पीड़ित हैं या परिवार में किसी को दिल की समस्या रही है, ऐसी महिलाओं को हृदयघात होने का ज्यादा खतरा है. महिला दिवस के मौके पर यह जागरूकता फैलाई जानी चाहिए कि आहार में बदलाव, नियमित व्यायाम और धूम्रपान छोड़ने से 80 प्रतिशत तक दिल के रोग कम किए जा सकते हैं.





नोएडा स्थित कैलाश हॉस्पिटल एंड हार्ट इंस्टीट्यूट से डॉ. संतोष कुमार अग्रवाल कहते हैं कि एक अध्ययन के मुताबिक भारत की करीब 23 प्रतिशत महिलाएं ज़्यादा मोटी हैं. मोटापा हृदय रोग का प्रमुख कारण है. पुरुषों की तुलना में महिलाओं में पेट का मोटापा अधिक होता है जिसकी वजह से रक्त धमनियों में मोम जैसा तत्व जिसे प्लाक कहा जाता है, वह जमा हो जाता है. 

यह प्लाक हृदय तक ऑक्सीजन और रक्त पहुंचाने में बाधा उत्पन्न करता है. संतुलित और सेहतमंद आहार, उचित नींद, धूम्रपान का त्याग और प्रतिदिन 30 मिनट का व्यायाम हृदय रोग से बचाव में बेहद कारगर साबित हो सकता है. महिलाओं में हृदय रोग के लक्षण मेनोपॉज (रजनोवृत्ति) के बाद से ही नजर आने लगते हैं. इसलिए इसके बाद महिलाओं को अत्यंत सावधान हो जाना चाहिए और नियमित जांच करवाते रहना चाहिए.



Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com



अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 2020 पर जानें हृदय रोग से बचने के कारगर सुझाव (International Women's Day: Start With Your Health)

  • व्यायाम, तैराकी, नृत्य और योग करें. शारीरिक गतिविधियों से महिलाओं में हृदय रोग 45 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है. 
  • धूम्रपान और तंबाकू का सेवन त्याग दें, इससे दिल के रोग का खतरा दोगुना हो जाता है.
  • हरी पत्तेदार सब्जियां, ताजा फल, अनाज, बींस, डाइटरी फाइबर, सूखे मेवे और मछली का सेवन करें. ट्रांस फैटी एसिड, डाईट्री कोलेस्ट्रॉल और सेचुरेटेड फैट से बचें. 
  • तनाव से बचाव करें. ध्यान, योग, और सांस क्रियाओं के द्वारा हृदय रोग से बचाव किया जा सकता है.
  • पर्याप्त नींद लें. हृदय रोग और रक्तचाप से सुरक्षा के लिए प्रतिदिन 6 से 8 घंटे सोना जरूरी है.

वहीं, ऑस्ट्रिया की मेडिकल यूनिवर्सिटी ऑफ वियेना से एलेक्जेंड्रा विलर कहती हैं, महिलाओं को सक्रिय रूप से दैनिक दिनचर्या में आराम की अवधि को शामिल करने की जरूरत है. अगर आप खुद स्वस्थ रहेंगी, तभी तो अपने परिवार को भी स्वस्थ रख पाएंगी. इसलिए इस महिला दिवस पर खुद से यह प्रोमिस करें कि आप अपनी हेल्थ का ध्यान खुद रखेंगी और अपने रुटीन में थोड़ा बदलाव करके खुद के लिए समय निकालेंगी. ( इनपुट्स आईएएनएस से)



Comments

Happy Women's Day 2020!

और खबरों के लिए क्लिक करें.



NDTV Food Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं ताजा फूड खबरें , चटपटे जायके, हेल्थ टिप्स, ब्यूटी के कारगर नुस्खे और टिप्स और फूड एंड ड्रिंक से जुड़ी खबरें भी.

Advertisement
ताजा लेख
Advertisement