अनिद्रा का इलाज : रात को नींद ना आए तो क्या करना चाहिए

लेकिन क्या हो अगर आप दिनभर की थकान के बाद भी सो ही न पाएं. अगर आप मानसिक तनाव, दबी हुई इच्छाएं और मन में तीव्र कड़वाहट लिए हुए बिस्तर पर लेटे हैं तो आप अनिद्रा का शिकार हो सकते हैं. क्या आप भी अनिद्रा रोग का उपचार तलाश रहे हैं. अनिद्रा के लक्षण पहचान कर उसका सही समय पर इलाज करना जरूरी है. अनिद्रा के आयुर्वेदिक उपचार भी हैं.

एनडीटीवी  |  Updated: July 22, 2019 12:17 IST

Reddit
How to Sleep Better: Sleeping Tips & Tricks | neend aane ki dawa

Sleep Disorder: एक थकान भरे दिन के बाद जब आप रात को घर लौटते हैं तो यकीनन डिनर के बाद जो दूसरी चीज आपको चाहिए वह होती होगी गहरी और अच्छी नींद. गहरी नींद ही आपको अगले दिन के लिए तैयार करती है. लेकिन क्या हो अगर आप दिनभर की थकान के बाद भी सो ही न पाएं. अगर आप मानसिक तनाव, दबी हुई इच्छाएं और मन में तीव्र कड़वाहट लिए हुए बिस्तर पर लेटे हैं तो आप अनिद्रा का शिकार हो सकते हैं. क्या आप भी अनिद्रा रोग (Insomnia Home Remedies) का उपचार तलाश रहे हैं. अनिद्रा के लक्षण पहचान कर उसका सही समय पर इलाज करना जरूरी है. अनिद्रा के आयुर्वेदिक उपचार भी हैं. नींद न आने की समस्या से परेशान लोग अग्सर अनिद्रा ऐसे इलाज तलाशते हैं जो हमेशा के लिए हों. लेकिन क्या आप जानते हैं कि घबराहट अनिद्रा का एक कारण हो सकती है. अक्सर लोग अनिद्रा के लिए एलोपैथिक दवा लेते हैं, अनिद्रा के लिए योग भी किया जा सकता है. अनिद्रा के लिए आयुर्वेदिक दवा या घरेलू नुस्खे (Natural Remedies for Sleep) भी खुब आजमाए जाते हैं. उच्च रक्तचाप, कंजेस्टिव हार्ट फेल्योर, डायबिटीज व अन्य बीमारियों से भी अनिद्रा का सीधा संबंध है. आयुर्वेद में नींद का वर्णन वात और पित्त दोष के बढ़ने के रूप में मिलता है. इसका सबसे प्रमुख कारण है मानसिक तनाव, दबी हुई इच्छाएं और मन में तीव्र कड़वाहट.

जिसे आप हेल्दी समझ कर खा रहे हैं वही बढ़ा सकता है हार्ट डिजीज, मौत का खतरा!

अनिद्रा के लक्षण, कारण, इलाज, दवा, उपचार और ज्यादा गहरी नींद कैसे पाएं

क्या होते हैं अनिंद्रा या नींद न आने के कारण 

अनिद्रा या नींद न आने की कई वजहें हो सकती हैं. कई बार कब्ज, अपच, चाय, कॉफी और शराब का अधिक सेवन और पर्यावरण में परिवर्तन, यानी ज्यादा सर्दी, गर्मी या मौसम में बदलाव. ज्यादातर मामलों में ये सिर्फ प्रभाव होते हैं न कि अनिद्रा के कारण. अनिद्रा तीन प्रकार तीव्र, क्षणिक और निरंतर चलने वाली होती है.

Health Tips: रोटी खाएं या चावल, क्‍या है सेहत के लिए बेहतर? चलिए कंपेयर करते हैं

क्या होती है अनिद्रा 

अनिद्रा का मतलब है सोने में मुश्किल होना या रात को नींद न आना. इसका एक रूप है, स्लीप-मेंटीनेंस इन्सोम्निया, यानी सोये रहने में कठिनाई या बहुत जल्दी जाग जाना और दोबारा सोने में मुश्किल. पर्याप्त नींद न मिलने पर चिंता बढ़ जाती है, जिससे नींद में हस्तक्षेप होता है और यह दुष्चक्र चलता रहता है. उच्च रक्तचाप, कंजेस्टिव हार्ट फेल्योर, डायबिटीज व अन्य बीमारियों से भी अनिद्रा का सीधा संबंध है.

मानसून में स्ट्रीट फूड खाने के हैं शौकीन तो ट्राई करें हेल्दी दही पूरी की यह स्वादिष्ट रेसिपी

क्यों होती है अनिद्रा 

जीवनशैली से जुड़ी आदतों के चलते अनिद्रा की शिकायत हो सकती है. अनिद्रा को आमतौर पर एक लक्षण के रूप में देखा जाता है. अनिद्रा या नींद न आने की समस्या इस बात की ओर इशारा कर सकती है कि आप मानसिक रूप से परेशान या अस्वस्थ हैं. अक्सर मनोचिकित्सा विकार का सामना कर रहे लोगों को नींद आने में लगातार कठिनाई होती है.

eno8shgg

Insomnia Home Remedies: जानें क्या होते हैं अनिद्रा के लक्षण, कारण, इलाज. 

अनिद्रा दूर करने के लिए खाने से जुड़ी बातें

अगर आप भी अनिद्रा का रामबाण इलाज तलाश रहे हैं तो हम आपको बता दें कि अनिद्रा से निपटने के लिए आप अपने आहार में कुछ बदलाव कर सकते हैं. जैसे 
- एक या दो बजे के बाद कैफीनयुक्त पेय पदार्थ लेने से बचें. 
- अल्कोहल की मात्रा सीमित करें और सोने से दो घंटे पहले अल्कोहल न लें. 

जानिए चने से होने वाले फायदों के बारे में, इस तरह आहार में करें शामिल

अनिद्रा दूर करने के उपाय । अनिद्रा का रामबाण इलाज

- टहलने, जॉगिंग करने या तैराकी करने जैसे नियमित एरोबिक व्यायाम में हिस्सा लें. इसके बाद आपको गहरी नींद आ सकती है और रात के दौरान नींद टूटती भी नहीं है. 
- जितनी देर आप सो नहीं पाते हैं उन मिनटों का हिसाब रखने से दोबारा सोने में परेशानी हो सकती है. नींद उचट जाए तो घड़ी को अपनी निगाह से दूर कर दें.
- एक या दो सप्ताह के लिए अपने नींद के पैटर्न को ट्रैक करें. 
- अगर आपको लगता है कि आप सोने के समय में बिस्तर पर 80 प्रतिशत से कम समय बिना सोये बिता रहे हैं, तो इसका अर्थ है कि आप बिस्तर पर बहुत अधिक समय बिता रहे हैं. बाद में बिस्तर पर जाने की कोशिश करें और दिन के दौरान झपकी न लें. यदि आप शाम को जल्दी सोने लगें, तो रोशनी को तीव्र कर दें.
- अगर आपका दिमाग सोच-विचार में लगा है या आपकी मांसपेशियां तनाव में हैं, तो आपको सोने में मुश्किल हो सकती है. दिमाग को शांत करने और मांसपेशियों को आराम देने के लिए, ध्यान करना, गहरी सांस लेना या मांसपेशियां को आराम देने से लाभ हो सकता है.

और खबरों के लिए क्लिक करें.







Comments

NDTV Food Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं ताजा फूड खबरें , चटपटे जायके, हेल्थ टिप्स, ब्यूटी के कारगर नुस्खे और टिप्स और फूड एंड ड्रिंक से जुड़ी खबरें भी.

Advertisement
ताजा लेख
Advertisement