इन बातों का रखेंगे ध्यान, तो 50 के बाद भी रहेंगे हेल्दी

   |  Updated: May 13, 2016 10:54 IST

Reddit
Keep these things in mind, you will be healthy after 50
बढ़ती उम्र लोगों को कई बीमारियों से घेर लेती है। दिल संबंधी बीमारी, ब्लड प्रेशर, डायबिटीज़, जोड़ों का दर्द कुछ ऐसी समस्याएं हैं, जो एक उम्र के बाद अक्सर लोगों को घेरे रहती हैं। वैसे तो हर बीमारी बॉडी के लिए खतरनाक हो सकती है, लेकिन फिर भी कुछ बीमारियां ऐसी होती है, जिन पर ध्यान देना ज़्यादा जरूरी होता है।

50 साल से ज्यादा उम्र के मरीजों को केवल अपने हाई ब्लड प्रेशर पर ध्यान देना चाहिए और निम्न ब्लड प्रेशर को नजरअंदाज कर देना चाहिए। 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए सिस्टॉलिक प्रेशर अगर 140 एएएचजी या ज्यादा हो, तो इसे हाई माना जाता है। यह जानकारी हार्ट केयर फाउंडेशन (एचसीएफआई) के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने दी।
Newsbeep
उन्होंने बताया कि सिस्टॉलिक ब्लड प्रेशर- इसकी रीडिंग में ऊपरी रीडिंग-दिल के पपिंग साइकल की शुरुआत में नोट किए जाने वाला नंबर होता है, जबकि डायस्टिोलिक प्रेशर रेस्टिंग साइकल के दौरान निम्नतम प्रेशर रिकार्ड करता है। ब्लड प्रेशर मापते वक्त दोनों को देखा जाता है।

जर्नल ऑफ लांसेट में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, डायस्टोलिक प्रेशर पर जोर दिया गया है, जबकि मरीज सिस्टॉलिक प्रेशर पर उचित नियंत्रण नहीं रख पा रहे हैं। सच्चाई यह है कि 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को तो डायस्टोलिक माप की जरूरत भी नहीं है, केवल उन्हें सिस्टॉलिक ब्लड प्रेशर पर ध्यान देने की जरूरत है।

आम तौर पर सिस्टॉलिक ब्लड प्रेशर उम्र के साथ बढ़ता रहता है, जबकि डायस्टिॉलिक प्रेशर 50 की उम्र के बाद कम होने लगता है। यह वही वक्त होता है जब दिल के रोगों का समय शुरू होता है। इसलिए 50 के बाद सिस्टॉलिक हाइपरटेंशन बढ़ जाती है, जबकि डॉयटॉलिक हाइपरटेंशन होती ही नहीं। बढ़ता सिस्टॉलिक प्रेशर स्ट्रोक और दिल के रोगों के लिए बेहद अहम है।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

डॉ. अग्रवाल के मुताबिक, 50 से कम उम्र के लोगों में यह अलग होता है। 40 साल से कम के 40 प्रतिशत बालिगों में डायस्टोलिक हाइपरटेंशन होता है। उनमें एक 40 से 50 के एक तिहाई में यह समस्या होती है।

उन्होंने कहा कि ऐसे मरीजों के लिए सिस्टॉलिक और डॉयस्टिॉलिक ब्लड प्रेशर दोनों पर गौर करने की जरूरत होती है। लेकिन ऐसे मरीजों में भी सिस्टॉलिक ब्लड प्रेशर पर नियंत्रण रखने से डायस्टिॉलिक ब्लड प्रेशर के मामले में भी आवश्यक परिणाम आ जाते हैं।

Comments
(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है)

NDTV Food Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं ताजा फूड खबरें , चटपटे जायके, हेल्थ टिप्स, ब्यूटी के कारगर नुस्खे और टिप्स और फूड एंड ड्रिंक से जुड़ी खबरें भी.

Advertisement
ताजा लेख
Advertisement