Navratri 2018: नवरात्रि में करेंगे ये 5 चीजे इस्तेमाल, तो होंगे फायदे ही फायदे

Navratri 2018: हिन्दी और संस्कृत में नवरात्रि का मतलब होता है नौ रातें.

एनडीटीवी फूड डेस्क  |  Updated: October 10, 2018 11:52 IST

Reddit
Navratri 2018: 5 Navratri Fasting Favourites And Their Health Benefits, Navratri mein hoga fayda hi fayda

Navratri 2018: इन दिनों लोग देवी दुर्गा के नौ अवतार की पूजा करते हैं.

Highlights
  • नवरात्रि एक ऐसा पर्व है जिसका लोगों को बेसब्री से इंतजार होता है.
  • इस साल चैत्र नवरात्रि 2018 18 मार्च से शुरू होकर 25 मार्च को समाप्त होंगे
  • हिन्दुओं के लिए इन नौ दिनों का बहुत महत्व होता है.

Navratri 2018: हिन्दी और संस्कृत में नवरात्रि का मतलब होता है नौ रातें. हिन्दुओं के लिए इन नौ दिन का बहुत महत्व होता है. इन दिनों लोग देवी दुर्गा ( Maa Durga) के नौ अवतार की पूजा करते हैं. देवी ( Durga maa) को प्रसन्न करने के लिए फल, फूल और विभिन्न तरह की खाद्य सामग्री का भोग लगाया जाता हैं. कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो पूरे विधि-विधान के साथ नौ दिन का उपवास ( Navratri vrat) करते हैं. वैसे तो एक साल में चार बार नवरात्रि ( Navratri 2018) आते हैं जिनमें से चैत्र और शरद नवरात्रि को बड़े स्तर पर मनाया जाता है. प्राचीनकाल से ही व्रत रखने का विचार चला आ रहा है न सिर्फ धार्मिक वजह से बल्कि ऋतु परिवर्तन के दौरान शरीर को स्वस्थ और हल्का रखने के लिए भी उपवास किया जाता है.


दरअसल, चैत्र नवरात्रि (Navratri 2018) और शरद नवरात्रि (Sharad Devi Navaratri) दोनों वसंत / गर्मी और शरद ऋतु / सर्दियों में आते हैं और मौसम परिवर्तन होने का असर आपकी इम्यूनिटी पर भी पड़ता है. इसलिए इस दौरान खुद को स्वस्थ और हल्का रखने के लिए यह अच्छा समय होता है. नवरात्रि के पर्व में कई स्पेशल फूड आट्मस बनाएं जाते हैं. यहां हम आपको ऐसे ही पांच पसंदीदा फूड आट्मस के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके अपने कुछ स्वास्थ्य लाभ भी हैं.  



Sharad Navratri 2018: नवरात्रि के नौ दिन नवदुर्गा को यह खास भोग लगाकर करें प्रसन्न



Remedies for hair fall: झड़ते बालों को तुरंत रोक देंगे ये घरेलू नुस्खे...




कुट्टू का आटा



जो लोग पूरे विधि-विधान के साथ नवरात्रि ( Navaratri 2018) के व्रत करते हैं उन्हें यह बात अच्छी तरह पता होगी कि इस व्रत में मैदा या गेंहू का आटा नहीं खाया जाता. जो लोग व्रत रखते हैं, कुट्टू का आटा उन लोगों का पसंदीदा होता है. कुट्टू के आटे में आवश्यक एमिनो एसिड होता है जिससे उच्च गुणवत्ता वाला प्रोटीन स्रोत बनता है. इसमें आर्गिनिन और लाइसिन भरपुर मात्रा में होता है. कुट्टू के आटे में उच्च फाइबर सामग्री होती है जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर के लिए अच्छी होती है और लंबे समय तक संतुष्ट रखती है. कुट्टू का आटा विभिन्न खनिजों से समृद्ध होता है जैसे फास्फोरस, सेलेनियम, जिंक, तांबे और पोटेशियम.



एक गिलास गर्म पानी, दूर करेगा कई परेशानी... गर्म पानी पीने के 10 फायदे



Skin Care Tips : बदलते मौसम में यूं रखें स्किन का ख़्याल

सेंधा नमक

जैसाकि सभी को मालूम है कि व्रत के दौरान साधारण नमक की जगह व्रत वाला नमक इस्तेमाल किया जाता है, जिसे सेंधा नमक कहा जाता है. सेंधा नमक असंख्य स्वास्थ्य लाभों से भरा हुआ है. सेंधा नमक एक अत्यधिक क्रिस्टलीय नमक है और इसे समुद्र के पानी के वाष्पन द्वारा तैयार किया जाता है, इसमें सोडियम क्लोराइड की उच्च मात्रा नहीं होती है.  डॉ.वसंत लाड द्वारा 'द कम्पलीट बुक आॅफ आयुर्वेदिक होम रेमेडी' के अनुसार, सेंधा नमक से पाचन में सुधार होता है और पेट दर्द को दूर करने के भी यह एक स्वाभाविक तरीका है. एक ग्लास लस्सी में सेंधा नमक और कुछ पुदीने के पत्ते डालकर पीने के भी अपने फायदे हैं. बैंगलोर आधारित पोषण विशेषज्ञ डॉ. अंजू सूद का कहना है, "सेंधा नमक का उपयोग पेट के संक्रमण के इलाज के लिए भी किया जा सकता है. सेंधा नमक मेटाबॉलज्यिम में तेजी लाता है और ब्लड प्रेशर को स्थिर रखता है.
 

salt

सेंधा नमक असंख्य स्वास्थ्य लाभों से भरा हुआ है.

जीरा 

उपवास के दौरान ऐसे बहुत से मसाले हैं जिनका इस्तेमाल नहीं किया जाता. नवरात्रि उपवास के दौरान शरीर को पूरी तरह शुद्ध कर सकते हैं, व्रत करने से आपके शरीर से टॉक्सिन बाहर आते हैं. मौसम में बदलाव होने की वजह से चिकना और ज्यादा मसालेदार भोजन  की जगह हल्का खाना खाने की सलाह दी जाती है. जीरा एक ऐसा मसाला है जो पेट में भारीपन नहीं आने देता और पेट को स्वस्थ रखने में मदद करता है. जीरा पाचन में मदद करता है और पेट दर्द को रोकता है. जीरा आयरन और डाइटरी फाइबर का अच्छा स्रोत है. इसके अलावा जीरा इम्युनिटी सिस्टम के लिए भी फायेदमंद हैं.
 



Dates Benefits: हड्डियां होंगी मजबूत, त्वचा बनेगी खूबसूरत और उतरेगा हैंगओवर... खजूर के 10 फायदे



Yoga benefits: रोज करेंगे ये 6 आसान योगासन तो शेप में आएगी बॉडी, वजन होगा कम



आलू



काफी समय से आलू को स्वास्थ्य और फिटनेस के नजरिए से ठीक सब्जी नहीं समझा जाता है. लेकिन यह पूरी रह सही नहीं है, अगर आलू को अच्छी तरह पकाया जाए तो वह भी एक हेल्दी सब्जी है. नवरात्रि इसके लिए बेस्ट टाइम है जब आप इस स्वादिष्ट सब्जी के साथ एक्सपेरिमेंट कर सकते हैं. फ्राइड आलू चिप्स की जगह आप आलू की कढ़ी, आलू हलवा या फिर लो फैट आलू कटलेट्स भी ट्राई कर सकते हैं. आलू में विटामिन सी, पोटेशियम, फाइबर, बी विटामिन कॉपर, ट्रिप्टोफैन, मैंगनीज और यहां तक कि ल्यूटिन का उत्कृष्ट स्रोत हैं. यह शरीर में सूजन को रोकने और प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने में भी मदद करता है.



केले के छिलकों में है गुणों का ऐसा खजाना कि जानकर चौंक जाएंगे आप



कैसे वजन और पेट की चर्बी कम करने के लिए करें सेब के सिरके का इस्तेमाल...

aloo

फ्राइड आलू चिप्स की जगह आप आलू की कढ़ी, आलू हलवा या फिर लो फैट आलू कटलेट्स भी ट्राई कर सकते हैं.
 

साबुदाना 

साबुदाना व्रत के दौरान खाए जाने वाला मुख्य खाद्य पदार्थ है. नवरात्रि के दौरान आप चाहे तो साबुदाना पापड़, साबुदाना खीर, साबुदाना खिचड़ी, साबुदाना वड़ा जैसे अन्य स्वादिष्ट व्यंजन बनाकर खा सकते हैं. साबुदाना एक ऐसा सुपरफूड है जिसमें विभिन्न एंटीऑक्सिडेंट और कैल्शियम, लोहा और विटामिन के जैसे खनिजों से भरपूर है. साबुदाने में कार्ब और फाइबर भी अच्छी मात्रा में होता है, आप चाहे तो इसे अपने दैनिक आहार में भी शामिल कर सकते हैं.



Baby food: कितना सही है नवजातों को कफ़ के दौरान शहद चटाना



Comments

ये 7 'हेल्दी फूड' शुगर के मरीज़ों को पहुंचा सकते हैं नुकसान

sabudana

साबुदाना व्रत के दौरान खाए जाने वाला मुख्य खाद्य पदार्थ है.



NDTV Food Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं ताजा फूड खबरें , चटपटे जायके, हेल्थ टिप्स, ब्यूटी के कारगर नुस्खे और टिप्स और फूड एंड ड्रिंक से जुड़ी खबरें भी.
Tags:  Navratri 2018

Advertisement
ताजा लेख
Advertisement