Type 2 Diabetes हो सकती है जानलेवा! कलौंजी से कंट्रोल करें टाइप 2 डायबिटीज, जानें कैसे...

What is Type 2 Diabetes: मधुमेह यानी डायबिटीज से पीड़ित लोगों को दिल की बीमारियों (Type 2 Diabetes and Heart Disease) से मौत का खतरा बढ़ जाता है. टाइप-2 डायबिटीज वाले लोगों में लगभग 58 प्रतिशत मौतें हृदय संबंधी परेशानियों के कारण होती हैं.

Edited by: अनिता शर्मा  |  Updated: March 27, 2019 15:39 IST

Reddit
Type 2 Diabetes Diet Guidelines and Prevention Tips, Diabetes se bachav ke upay aur nuskhe

What is Type 2 Diabetes: मधुमेह यानी डायबिटीज से पीड़ित लोगों को दिल की बीमारियों (Type 2 Diabetes and Heart Disease) से मौत का खतरा बढ़ जाता है. टाइप-2 डायबिटीज वाले लोगों में लगभग 58 प्रतिशत मौतें हृदय संबंधी परेशानियों के कारण होती हैं. मधुमेह के साथ जुड़े ग्लूकोज के उच्च स्तर से रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचता है, जिससे रक्तचाप और नजर, जोड़ों में दर्द तथा अन्य परेशानियां हो जाती हैं. चिकित्सक के अनुसार, टाइप-2 मधुमेह सामान्य रूप से वयस्कों को प्रभावित करता है, लेकिन युवा भारतीयों में भी यह अब तेजी से देखा जा रहा है. वे गुर्दे की क्षति और हृदय रोग के साथ-साथ जीवन को संकट में डालने वाली जटिलताओं के जोखिम को झेल रहे हैं. Diabetes Tips: डायबिटीज वह स्थिति है जब ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है. वर्तमान में यह दुनियाभर में सबसे अधिक ज्यादा फैलने वाले चयापचय विकारों में से एक है. डायबिटीज या मधुमेह रोगियों को अपनी डाइट के प्रति बहुत ज्यादा सजग रहने की जरूरत होती है. यह जरूरी हो जाता है कि आप अपनी डाइट में शुगर पर ध्यान दें और नेचुरल एंटिबायोटिक्स (Natural antidiabetic) लें, जो आपको आहार से मिल सकते हैं. वैज्ञानिकों ने कई फलों और सब्जियों के प्राकृतिक एंटीडायबिटिक गुणों की खोज की है.

Diabetes Tips: भिंडी का पानी करेगा ब्लड शुगर कंट्रोल, जानें कैसे बनाएं Okra Water


क्या हैं टाइप 2 डायबिटीज के कारण | Type 2 Diabetes Causes

पद्मश्री से सम्मानित डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, "देश में युवाओं के मधुमेह से ग्रस्त होने के पीछे जो कारक जिम्मेदार हैं, उनमें प्रमुख है प्रोसेस्ड और जंक फूड से भरपूर अधिक कैलारी वाला भोजन, मोटापा तथा निष्क्रियता. समय पर ढंग से जांच न कर पाना और डॉक्टर की सलाह का पालन न करना उनके लिए और भी जोखिम भरा हो जाता है, जिससे उन्हें अपेक्षाकृत कम उम्र में ही जानलेवा स्थितियों से गुजरना पड़ जाता है."





Plant-Based Diabetes Superfoods: डाइट में करें ये बदलाव और संतुलित करें Blood Sugar Levels



dlpap2h

What is Type 2 Diabetes: जानिए क्या होती है टाइप 2 डायबिटीज.Photo Credit: iStock



क्या होती है टाइप 2 डायबिटीज | What is Type 2 Diabetes

लोगों में एक आम धारणा है कि टाइप-2 मधुमेह वाले युवाओं को इंसुलिन की जरूरत नहीं होती है, इसलिए ऐसा लगता है कि यह भयावह स्थिति नहीं है. हालांकि, ऐसा सोचना गलत है. इस स्थिति में तत्काल उपचार और प्रबंधन की जरूरत होती है. ध्यान देने वाली बात यह है कि टाइप-2 डायबिटीज वाले युवाओं में कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं. यदि कुछ दिखते भी हैं, तो वे आमतौर पर हल्के हो सकते हैं, और ज्यादातर मामलों में धीरे-धीरे विकसित होते हैं, जिनमें अधिक प्यास और बार-बार मूत्र त्याग करना शामिल है.

Type-2 Diabetes: ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मदद करेगी रागी, डायबिटीज में है फायदेमंद


डाइबिटीज और खाने से जुड़े परहेज | Type 2 Diabetes Diet Guidelines: Foods to Eat, Foods to Avoid

डायबिटीज में अगर आप यह समझ गए कि क्या खाना है और किस चीज से परहेज करना है तो इसे कंट्रोल (Diabetes Treatment) करना आपके लिए बहुत आसान हो जाएगा. तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि किस तरह आप अपनी डायबिटीज को कंट्रोल कर सकते हैं.  विशेषज्ञों के अनुसार, यदि उचित उपायों का उपयोग करके डायबिटीज को कंट्रोल न किया जाए, तो यह आपके किडनी, हार्ट के साथ-साथ वजन बढ़ने की समस्‍या से आपको पीड़ित कर सकता है. केरल आयुर्वेद के डॉ. ओम के अनुसार टाइप -1 डायबिटीज (Tipe 1 Diabetes) वात (वायु और गैस) दोष का असंतुलन है, जबकि टाइप -2 डायबिटीज (Tipe 2 Diabetes) कपा (जल और पृथ्वी) दोष की अधिकता है. आयुर्वेद आहार (Ayurveda and Diabetes) संबंधी कुछ फेमस प्रथाओं का भी सुझाव देता है जो मधुमेह को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने के लिए काम आ सकते हैं. मधुमेह रोगियों को वसायुक्त, तली-भुनी और ऑयली खाने से बचना चाहिए और ताज़े त‍था मौसमी फलों और सब्जियों का सेवन करना चाहिए, खासकर वह खाद्य पदार्थ जिनमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है. डायबिटीज है, तो इस बातों का रखें खास ख्‍याल...





डायबिटीज को कंट्रोल करने में ये तीन टिप्‍स कर सकते हैं आपकी मदद

vmnp85g

Diabetes Prevention Tips: अपनी डाइट में शुगर पर ध्यान दें और नेचुरल एंटिबायोटिक्स (Natural antidiabetic) लें. Photo Credit: iStock


Kalonji For Type-2 Diabetes: कैसे कलौंजी टाइप 2 डायबिटीज में है फायदेमंद

Black Seeds For Type-2 Diabetes: ब्लैक सीड्स यानी कलौंजी का इस्तेमाल भारतीय आहार में खूब किया जाता है. इसे पूरा का पूरा इस्तेमाल किया जाता है इसके अलावा कलौंजी का तेल भी बनाकर इस्तेमाल में लिया जाता है. कलौंजी का इस्तेमाल टाइप 2 डाइबिटीज में भी किया जाता है. टाइप 2 डाइबिटीज (Type-2 diabetics) में आप कलौंजी को या फिर कलौंजी के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं. यह ब्लड शुगर लेवल (regulating blood sugar levels in diabetics) को नियंत्रित करने में कारगर है. हां, कलौंजी का तेल टाइप 2 डायबिटीज में अधिक फायदेमंद साबित हो सकता है. इसमें एंटिऑक्सीडेंट होते हैं जो कई तरह से टाइट 2 डाइबिटीज (Type-2 diabetics) में फायदेमंद होते हैं. 


1. कई शोध यह बात साबित कर चुके हैं कि कलौंजी ब्लड शुग लेवल को नियमित करने में मददगार है. शोध के अनुसार डायबिटीज के मरीज अगर अपने आहार में कलौंजी का इस्तेमाल करते हैं तो यह खाली पेट ब्लड शुगर लेवल को भी कंट्रोल करती है.


2. डायबिटीज के मरीजों को दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा ज्यादा होता है. क्योंकि डायबिटीज होने पर हाई डेंसिटी लाइपोप्रोटीन (levels of High Density Lipoprotein (HDL) यानी गुड कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होने लगता है और बैड कोलेस्ट्रॉल (Low Density Lipoprotein (LDL) का स्तर बढ़ता है. ऐसे में दिल से जुड़े रोगों का खतरा बढ़ जाता है. 



डायबिटीज को कंट्रोल करने में ब्रोकली है फायदेमंद, साबित करेंगी ये 6 वजह



3. कलौंजी में कोलेस्ट्रॉल नहीं होता. इसके साथ ही कई शोध इस बात का खुलासा कर चुके हैं कि कलौंजी को अपने आहार में शामिल करने से एलडीएल को कंट्रोल किया जा सकता है.

4. हाइपरग्लाइकेमिया या बढ़ा हुआ रक्त शर्करा (Hyperglycaemia or increased blood sugar level) का स्तर भी शरीर में बढ़ी हुई सूजन के जुड़ा हुआ है. इसलिए टाइप -2 डायबिटीज से पीड़ित लोगों में सूजन की ज्यादा समस्या देखने को मिलती है. 

5. शोध से पता चला है कि अपने दैनिक आहार में कलौंजी तेल या कलौंजी को शामिल करने से शरीर में सूजन और ऑक्सीडेटिव तनाव के लक्षणों को कम किया जा सकता है.



Sesame Seeds For Diabetes: ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करेंगे तिल, जानें तिल के फायदे


टाइप 2 डाइबिटीज से बचाव के सुझाव | Type 2 Diabetes Prevention Tips

- खाने में स्वस्थ खाद्य पदार्थ ही चुनें.
- प्रतिदिन तेज रफ्तार में टहलें. 
- अपने परिवार के साथ अपने स्वास्थ्य और मधुमेह व हृदय रोग के जोखिम के बारे में बात करें.
- यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो इसे छोड़ने की पहल करें. 
- अपने लिए, अपने परिवार के लिए और आने वाली पीढ़ियों के लिए मधुमेह और इसकी जटिलताओं संबंधी जोखिम को कम करने खातिर जीवनशैली में बदलाव करें.
- यदि घर के बड़े लोग अच्छी जीवनशैली का उदाहरण पेश करते हैं तो यह युवाओं के लिए भी प्रेरणादायी होगा. इस तरह के बदलाव एक युवा को अपना वजन कम करने में मदद कर सकते हैं (अगर ऐसी समस्या है तो) या उन्हें खाने-पीने के बेहतर विकल्प खोजने में मदद कर सकते हैं, जिससे टाइप-2 मधुमेह विकसित होने की संभावना कम हो जाती है. जिनके परिवार में पहले से ही डायबिटीज की समस्या रही है, उनके लिए तो यह और भी सच है. (इनपुट -आईएएनएस)

High Blood Pressure: क्या हाई बीपी के मरीज आलू खा सकते हैं? यहां पढ़ें आलू के फायदे और नुकसान



और खबरों के लिए क्लिक करें.

Comments

NDTV Food Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं ताजा फूड खबरें , चटपटे जायके, हेल्थ टिप्स, ब्यूटी के कारगर नुस्खे और टिप्स और फूड एंड ड्रिंक से जुड़ी खबरें भी.

Advertisement
ताजा लेख
Advertisement