दूध में डिटर्जेंट मिलने का मामला : मदर डेयरी ने कहा, दिसंबर में लिया गया था सैंपल

NDTV Food Hindi  |  Updated: June 17, 2015 13:52 IST

Reddit
Uttar pradesh: FDA finds detergent in Mother dairy milk

मदर डेयरी ने उत्तर प्रदेश खाद्य और दवा प्रशासन (एफडीए) के उस दावे को खारिज कर दिया है, जिसमें उसने मदर डेयरी दूध के नमूने में डिटर्जेंट मिलने की बात कही है। मदर डेयरी के प्रबंध निदेशक एस नागराजन ने कहा कि यह सैंपल दिसंबर में लिया गया था, जोकि चिलिंग सेंटर में टेस्ट नहीं हुआ है, बल्कि गांव से चिलिंग सेंटर के बीच में यह सैंपल लिया गया।

उनके अनुसार, यह कोई तैयार प्रोडक्ट नहीं था और अभी तक उनके पास इस बारे में कोई औपचारिक रिपोर्ट नहीं आई है। नागराजन ने दावा किया कि मदर डेयरी की टेस्टिंग विधि सबसे बेहतर है और कंपनी की ज़िम्मेदारी ग्राहकों के लिए सबसे ज़्यादा है।

उन्‍होंने बताया कि पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश में 80 हजार किसान हैं। लिहाजा, गांव के स्‍तर पर सभी तरह के टेस्‍ट करना मुमकिन नहीं है। मदर डेयरी 35 लाख लीटर दूध की सप्‍लाई केवल राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, हैदराबाद और मुम्बई में करती है।

वजन कम करने से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें- Weight Loss Tips in Hindi


नागरान ने स्‍पष्‍ट किया कि दूध खरीदने की प्रकिया यह है कि दूध पहले गांव स्‍तर पर किसानों से लिया जाता है और टेस्ट होते हैं। इसके बाद वह चिलिंग सेंटर जाता है और फिर फैक्ट्री में जाता है। उन्‍होंने अंदेशा जताया कि हो सकता है कि गांव के स्‍तर पर मिलावट हुई हो, लेकिन प्रोडक्‍ट के बाजार में आने से पहले इसके दो और लेवल के टेस्ट होते होते हैं। यह तैयार प्रोडक्ट नहीं था। लिहाजा, भ्रम ये हो गया कि कच्चे माल को तैयार माल मान लिया गया।

इससे पूर्व एफडीए ने मंगलवार को कहा था कि उसे मदर डेयरी दूध के नमूने में डिटर्जेंट मिला है। हालांकि, दिल्ली स्थित कंपनी ने इस दावे का प्रतिवाद किया है। यूपी एफडीए, आगरा के अधिकारी रामनरेश यादव ने कहा, 'परिणाम से पता चलता है कि दूध के नमूनों की गुणवत्ता हल्की है और दो में से एक नमूने में डिटर्जेंट पाया गया है।'

यादव ने बताया कि ये नमूने मदर डेयरी दूध के बाह संग्रह केन्द्र से नवंबर 2014 में लिए गए थे। उन्होंने कहा, 'इन नमूनों को पहले लखनऊ भेजा गया और बाद में कंपनी की मांग पर इन्हें कोलकाता भेजा गया।'

मदर डेयरी ने हालांकि, उसके द्वारा पैकेटों में बेचे जाने वाले दूध में किसी भी तरह की मिलावट से साफ तौर पर इनकार किया है।

ताजा लेख-

8 नए होटल खोलेगी इंडियन होटल्स कंपनी, पांच साल में इनती वृद्धि पर नजर



आंतों के कैंसर का खतरा कम करती हैं गोभी और ब्रोकली



रोज सुबह भूखे रह जाते हैं चीन के एक-तिहाई लोग, क्या है इसकी वजह...



Weight Loss: इन 3 असरदार Diet Tips से वजन कम होगा, गायब हो जाएगा बैली फैट...



इस त्योहारी सीजन में फिट रहने के लिए आपके काम आएंगे ये टिप्‍स‌‌‌‌‌‌...



दशहरा 2018 : पौराणिक कथाओं की झलक और टेस्टी फूड का स्‍वाद



Arhar Dal For Health: अरहर दाल के फायदे, जानें कैसे झटपट बनाएं रेस्तरां स्टाइल दाल फ्राई



 
दिल्ली में मदर डेयरी के दूध और फल एवं सब्जी विभाग के प्रमुख संदीप घोष ने कहा, 'मदर डेयरी दूध को विभिन्न स्तरों पर जांच के चार स्तरों से गुजरना होता है -- दूध प्राप्त होने, प्रसंस्करण, दूध जारी करने और यहां तक कि बाजार के स्तर पर उसकी जांच की जाती है।'

उन्होंने कहा, 'मदर डेयरी में प्लांट पर पहुंचने वाले दूध के हर टैंकर को 23 प्रकार की सख्त गुणवत्ता जांच से गुजरना होता है। इन परीक्षणों में दूध में पानी, यूरिया, डिटर्जेंट, तेल आदि सभी तरह की मिलावट की जांच की जाती है।'

घोष ने कहा, ‘इस तरह की किसी भी मिलावट के होने पर दूध को तुरंत खारिज कर दिया जाता है।' उन्होंने कहा कि मदर डेयरी आकस्मिक अथवा कभी-कभी परीक्षण के बजाय 100 प्रतिशत नियमित परीक्षण करती है।

Commentsमदर डेयरी राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड की पूर्ण स्वामित्व वाली एक इकाई है। (इनपुट एजेंसी से भी)

और खबरों के लिए क्लिक करें.
 



NDTV Food Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं ताजा फूड खबरें , चटपटे जायके, हेल्थ टिप्स, ब्यूटी के कारगर नुस्खे और टिप्स और फूड एंड ड्रिंक से जुड़ी खबरें भी.

Advertisement
ताजा लेख
Advertisement