विटामिन ई क्‍यों है आपके शरीर के लिए आवश्‍यक, जानिए इसके प्रमुख स्रोतों के बारे में

विटामिन हमारे शरीर के लिए महत्वपूर्ण होते हैं, लेकिन अक्सर प्रोटीन और फैट के चलते हम इसे नजरअंदाज कर देते हैं. विटामिन आवश्यक सूक्ष्म पोषक तत्वों का एक हिस्सा है जो कई प्रक्रियाओं के सुचारू संचालन के लिए हमारे शरीर के लिए आवश्यक होते हैं.

एनडीटीवी फूड डेस्क  |  Updated: June 14, 2019 12:29 IST

Reddit
Vitamin E: Benefits And Top 7 Dietary Sources Of The Antioxidant Vitamin

विटामिन हमारे शरीर के लिए महत्वपूर्ण होते हैं, लेकिन अक्सर प्रोटीन और फैट के चलते हम इसे नजरअंदाज कर देते हैं. विटामिन आवश्यक सूक्ष्म पोषक तत्वों का एक हिस्सा है जो कई प्रक्रियाओं के सुचारू संचालन के लिए हमारे शरीर के लिए आवश्यक होते हैं, मानव शरीर द्वारा आवश्यक कुछ सबसे महत्वपूर्ण विटामिनों में विटामिन ए, बी 1, बी 2, बी 3, बी 5, बी 6, बी 9, बी 12, सी, डी, ई और के शामिल हैं. यदि आप स्वस्थ और संतुलित आहार लेते हैं, तो आप अपने शरीर के लिए आवश्‍यक विटामिन प्राप्‍त कर सकते हैं. हालांकि, आपका पोषण विशेषज्ञ बेहतर रूप से इस बात पर प्रकाश डालने में सक्षम हो सकता है कि आपके शरीर को इनमें से प्रत्येक विटामिन की कितनी मात्रा की आवश्यकता है.



विटामिन ई: लाभ और आरडीए

विटामिन ई एक वसा में घुलनशील विटामिन है, जिसके कई प्रकार के रूप होते हैं. हालांकि, जो हमारे शरीर के लिए सबसे अधिक उपयोगी अल्फ़ा-टोकोफ़ेरॉल की मुख्य भूमिका एंटीऑक्सिडेंट की तरह काम करना और शरीर से मुक्त कणों का बाहर निकालना है. पुरुषों और महिलाओं दोनों को डेली 15 मिलीग्राम विटामिन ई की आवश्‍यकता होती है.



विटामिन ई के कुछ ऐसे लाभ, जिनके बारे में आपको अवश्य जानना चाहिए:

1. विटामिन ई दिल की बीमारी के जोखिम को कम करने में मदद करता है.

2. जिंक के साथ विटामिन ई का कॉमिनेशन, विटामिन सी और बीटा-कैरोटीन उम्र से संबंधित बिमारियों जैसे आंख की बीमारी से रक्षा कर सकता है.





lksfpfb8विटामिन ई का सेवन कई तरीकों से फायदेमंद हो सकता है

3. कुछ अध्ययनों से पता चला है कि विटामिन ई का सेवन कॉग्निटिव कार्यों में सुधार से जुड़ा हुआ है. इतना ही नहीं यह अल्जाइमर और पार्किंसंस जैसी बीमारियों के जोखिम को भी कम करता है.

4. एक अध्ययन के अुनसार विटामिन ई की डोज लेने से एएलएस या एमियोट्रोफिक लेटरल स्क्लेरोसिस के चलते होने वाली मृत्यु के जोखिम को कम किया जाा सकता है. ये दोनों दुर्लभ अवस्‍थाएं है जो मांसपेशियों को कमजोर बनाती हैं.

5. विटामिन ई को मुक्त कण कोशिकाओं के उत्पादन को रोकने और मुक्त कणों द्वारा क्षति से कोशिकाओं की रक्षा करने की क्षमता के लिए तैयार किया गया है.





विटामिन ई: एंटीऑक्सीडेंट विटामिन के आहार स्रोत

1. गेहूं के बीज का तेल
यह तेल गेहूं से निकाला जाता है और 100 ग्राम ऑयल में 255 मिलीग्राम विटामिन ई पाया जाता है. हालांकि, गेहूं के बीज का तेल काफी महंगा होता है.

2. बादाम
सबसे लोकप्रिय नट बादाम पौष्टिक और अनके स्वास्थ्य लाभों के लिए जाना जाता है. 100 ग्राम बादाम में 25.6 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.



r7ggra24
विटामिन ई फूड्स: बादाम इस आवश्यक विटामिन में समृद्ध होता हैं


3. एवोकाडो
आसपास के सबसे लोकप्रिय सुपरफूड्स में से एक, एवोकाडो स्वस्थ पोषक तत्वों से परिपूर्ण होता है, जिसमें विटामिन ई भी शामिल है. 100 ग्राम एवोकाडो में 14 प्रतिशत विटामिन ई पाया जाता है.

4. सूरजमुखी के बीज
सूरजमुखी के बीजों का सेवन हेल्दी स्नैक्स के रूप में भी किया जाता है. यह मोनो और पॉलीअनसेचुरेटेड वसा से भरपूर होने के साथ-साथ विटामिन ई का अच्‍छा स्रोत माना जाता है. 100 ग्राम सूरजमुखी के बीज में 35.7 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.



5. मूंगफली और मूंगफली का तेल 
मूंगफली को अक्सर नट्स माना जाता है. ये प्रोटीन से भरपूर होती हैं और स्नैक्स के साथ-साथ पीनट बटर के रूप में भी इसका सेवन किया जाता है. 100 ग्राम मूंगफली में 44 प्रतिशत विटामिन ई होता है.

fllqi12

मूंगफली वसा, प्रोटीन और विटामिन ई का समृद्ध स्रोत हैं

6. सोयाबीन ऑयल
विटामिन ई के कुछ सबसे अच्छे आहार स्रोत पौधे आधारित तेल हैं, जिनमें सोयाबीन का तेल भी शामिल है. इसका उपयोग कई घरों में खाना पकाने के लिए किया जाता है. सौ ग्राम रिफाइंड सोयाबीन तेल में 8.8 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

7. पालक
सबसे अच्छी कम कैलोरी वाली सब्जियों में से एक है पालक. दुनिया भर में इसे काफी पसंद किया जाता है. पालक एक बहुमुखी सब्जी है जिसमें अच्छी मात्रा में विटामिन ए, सी और के की मात्रा पाई जाती है. पालक भी लोकप्रिय सब्जियों में विटामिन ई का अच्‍छा स्रोत मानी जाती है.



(नोट: सभी पोषण संबंधी जानकारी यूएसडीए के अनुसार है)

शरीर में विटामिन ई की कमी होना मुश्किल होता है, क्योंकि शरीर को इसकी काफी कम मात्रा की आवश्यकता होती है. हालांकि, जो लोग अपने आहार में पर्याप्त वसा का सेवन नहीं करते हैं, उनमें इस विटामिन की कमी हो सकती है. विटामिन ई की कमी के कुछ लक्षणों में कम प्रतिरक्षा, रेटिना क्षति, परिफरल नसों की क्षति शामिल है, इसके  परिणामस्वरूप हाथों और पैरों में दर्द और कमजोरी होती है. यदि आपको इनमें से एक या अधिक लक्षण दिखाई देते हैं, तो किसी योग्य तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करें.

Comments

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

NDTV Food Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं ताजा फूड खबरें , चटपटे जायके, हेल्थ टिप्स, ब्यूटी के कारगर नुस्खे और टिप्स और फूड एंड ड्रिंक से जुड़ी खबरें भी.

Advertisement
ताजा लेख
Advertisement