क्या केला खाने से कब्ज दूर होती है? जानिए इस पर क्या है एक्सपर्ट्स की राय

Banana Calories : कुछ लोगों का मानना है कि केला कब्ज का कारण है जबकि कुछ लोग केले से कब्ज ठीक होने की बात करते हैं किस बात पर करें भरोसा, जानें यहां.

एनडीटीवी  |  Updated: September 24, 2019 17:11 IST

Reddit
Does eating banana relieve constipation? Know what is the opinion of experts on this | kele khane ke fayde, kele ke nukshan

Banana Nutrition: केले को एक हेल्दी फल के रूप में खाया जाता है.

Banana Benefits: केला खाना किसको पसंद नहीं है. जब भी हमारे पास समय की कमी होती है तो हम घर से एक केला खाकर निकल जाते हैं. खासकर सुबह के समय केला खाना किसी की आदत में भी शुमार होता है. इसके अलावा, केले को कई स्वास्थ्य लाभों के लिए खाने की सलाह दी जाती है. डीके पब्लिशिंग की किताब 'हीलिंग फूड्स' के अनुसार, केला एक बेहद बहुमुखी फल है. केले में पोटेशियम भरपूर मात्रा में होता है. जो ब्लड प्रेसर को बनाए रखने के लिए जरूरी होता है. यह एक प्राकृतिक एंटासिड हैं जो पेट के लिए काफी लाभदायक होता है. और कई करह के इलाज में भी शामिल किया जाता है. यह कई लोगों के लिए खास हो सकता है लेकिन अभी भी यह कब्ज के लिए विवाद का विषय बना हुआ है.



आलू खाने से होने वाले इन 4 नुकसानों को नहीं जानते होंगे आप

dr6qj0vg

Banana Nutrition: केले को आमतौर पर एक हेल्दी फल के रूप में खाया जाता है.  

मैक्रोबायोटिक न्यूट्रीशनिस्ट और हेल्थ कोच शिल्पा अरोड़ा के अनुसार, "केला फाइबर और पोषक तत्वों से भरा होता है जो आंत के लिए फायदेमंद होता है. यह फाइबर से विषाक्त चीजों को खत्म करने में मदद करता है. जो कब्ज को ठीक करने में मददगार होता है. हर किसी को यह समझने की जरूरत है कि केले से कब्ज नहीं होती है, बल्कि कब्ज के लिए कुछ खास तरह के खाने से बचना जरूरी होता है. जैसे बिस्कुट, ब्रेड मैदा आदि. 'हीलिंग फूड्स' किताब के अनुसार, केले में मौजूद फाइबर मल त्याग में मदद करता है और कब्ज को कम करता है.



डाइटीशियन रितु अरोड़ा के अनुसार, "पके हुए केले आंत सिंड्रोम में सुधार करते हैं और छोटी आंत में मौजूद माइक्रो विली को भी बेहतर बनाता है जिससे पाचन में आगे जाकर काफी मदद मिलती है. 

केले के इस्तेमाल से आप घर बैठे दूर कर सकते हैं त्वचा से जुड़ी ये 3 समस्याएं​

पका हुआ Vs कच्चा केला: कच्चे केले(Unripe bananas) खाने से कब्ज हो सकती है क्योंकि इनमें हाई लेवल का प्रतिरोधी स्टार्च होता है, जो पचाने में मुश्किल हो सकता है. यही कारण है कि पीले रंग के पके हुए केले को चुनना हमेशा एक बेहतर विकल्प होता है. हरे कच्चे केले आमतौर पर छोटे बच्चों में दस्त के इलाज में कारगर होते हैं. जैसे ही केला पकता है प्रतिरोधी स्टार्च(resistant starch) की मात्रा कम हो जाती है और यह शुगर में बदल जाता है. पके हुए केले से कब्ज को कब्ज को खत्म किया जा सकता है.

एसिडिटी से हैं परेशान? तो घर में मौजूद इन 5 चीज़ों से पाएं आराम​

fa2lcc8c

Health Benefits Of Banana: केले को मैश कर छोटे बच्चों को देने से होते है कई तरह के लाभ. 

क्या केला छोटे बच्चों को देना चाहिए: दिल्ली में बाल रोग विशेषज्ञ, डॉ. दीपक बंसल के अनुसार, “डब्ल्यूएचओ की सिफारिशों के अनुसार छह महीने की उम्र बच्चों को स्तनपान करवाना चाहिए. छह महीने के बाद धीरे-धीरे दूध छुड़ाना शुरू कर देना चाहिए. केला दूध छुड़ाने के लिए सबसे अच्छा ऑप्शन है. इसे 6 महीने की उम्र में बच्चों को दिया जा सकता है. दूध छुड़ाने के लिए दूसरी चीजों के मुकाबले केला बनावट में काफी नरम होता है. इसे मैश करना आसान है. केले में बाहर से एक मोटी परत होती है जिससे इसके दूषित होने की संभावना कम होती है. पानी, दूध या दही मिलाकर केले को और अधिक नरम किया जा सकता है. शुरुआत में थोड़ी मात्रा में इसे शुरू करना चाहिए. दिन में एक या दो बार दिया जा सकता है. अगर किसी फल से एलर्जी है तो डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए.



पके और कच्चे केले का इस्तेमाल कई उद्देश्यों के लिए किया जाता है. डायरिया से पीड़ित लोगों के लिए केला काफी लाभकारी है. दूसरी ओर कब्ज को दूर करने के लिए पके केले सबसे अच्छे होते हैं. हर दिन एक केला खाने से कई फायदे होते हैं. 

और खबरों के लिए क्लिक करें

Comments

NDTV Food Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं ताजा फूड खबरें , चटपटे जायके, हेल्थ टिप्स, ब्यूटी के कारगर नुस्खे और टिप्स और फूड एंड ड्रिंक से जुड़ी खबरें भी.

Advertisement
ताजा लेख
Advertisement