पूरी तरह सुरक्षित और सेहतमंद है Indian Food

देश में खाद्य पदार्थो में कीटनाशकों के अवशेष को लेकर बहुत-सी गलत जानकारियां फैलाई गई हैं, जबकि सच्चाई यह है कि भारत कई देशों के मुकाबले 10 गुना कम कीटनाशकों का इस्तेमाल करता है.

   |  Updated: October 24, 2019 10:30 IST

Reddit
How healthy is Indian food | What is the healthiest Indian food to order | What is traditional Indian food | Indian Recipes | indian food menu list

अगर आप उन लोगों में से हैं जो भारतीय फूड को बहुत मसालेदार, ऑयली या अनहेल्दी हैं तो यह खबर आपके लिए है. आल इंडिया नेटवर्क प्रोजेक्ट एंड पेस्टिसाइड रेसिड्यूस, भारतीय कृषि अनुसंधान केंद्र के वैज्ञानिक क़े के. शर्मा ने कहा है कि भारतीय खाद्य पदार्थ पूरी तरह सुरक्षित और सेहतमंद है. क़े के. शर्मा बुधवार को भारतीय विषविज्ञान अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर) लखनऊ द्वारा आयोजित खाद्य सुरक्षा के विभिन्न आयाम विषय पर आयोजित राष्ट्रीय कार्यशाला में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि "भारतीय खाद्य पदार्थ पूरी तरह सुरक्षित और सेहतमंद हैं, जिसके जहरीले होने को लेकर बहुत-सी भ्रांतियां हैं. इन्हें दूर करने के लिए वैज्ञानिकों को जनता को जागरूक करने की आवश्यकता है."

Newsbeep

Healthy Diet: कैसे घर पर बनाएं Healthy Raw Banana Patty Recipe, हेल्दी रॉ बनाना पैटी

डॉ शर्मा ने कहा, "देश में खाद्य पदार्थो में कीटनाशकों के अवशेष को लेकर बहुत-सी गलत जानकारियां फैलाई गई हैं, जबकि सच्चाई यह है कि भारत कई देशों के मुकाबले 10 गुना कम कीटनाशकों का इस्तेमाल करता है. जैसा कि प्रचारित किया जाता है कि आर्गेनिक खाद्य पदार्थ बाजार में मिलने वाले खाद्य पदार्थ के मुकाबले ज्यादा सुरक्षित हैं, बिल्कुल झूठ है."

बदल रहा है मौसम, खाने में शामिल करें गुड़, होंगे ये 5 फायदे

Diwali Skin Care Tips: दिवाली से पहले और बाद में कैसे करें त्वचा की देखभाल, यहां हैं घरेलू उपाय

उन्होंने कहा कि "सच्चाई यह है कि हमारे कई वर्षो के निरंतर वैज्ञानिक अध्ययन में यह पाया गया है कि आर्गेनिक खाद्य पदार्थ के नमूनों में से 25 फीसदी अधिकतम स्तर के ऊपर कीटनाशकों के अंश पाए गए हैं और वहीं बाजार में उपलब्ध आम खाद्य पदार्थो के सिर्फ 15 फीसदी नमूने ही एमआरएल से ऊपर पाए गए. यहां यह बात साफ कर देना चाहता हूं कि एमआरएल से अधिक कीटनाशक अंश का अर्थ यह नहीं है कि की यह जानलेवा या विषाक्त है."

मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज की डायरेक्टर शालिनी चावला ने कहा कि "कोई भी देश अपने नागरिकों को जहरीला भोजन नहीं खिलाना चाहेगा. देश में कीटनाशक बड़ी ही गहन प्रक्रिया से गुजरने के बाद ही उपयोग के लिए नियामक संस्था सीआईबी की स्वीकृति पाते हैं. एक कीटनाशक के मॉलिक्यूल को स्वीकृत होने में 2000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश तथा 12 से 25 वर्षो का गहन अध्ययन होता है, जिसके बाद ही इन्हें स्वीकृति मिलती है."

High-Protein Diet: वजन घटाने में आपकी मदद कर सकती हैं ये हेल्दी चाट रेसिपीज़

डॉ. अजित कुमार ने कहा, "देश का भोजन सुरक्षित है और इसके जहरीला होने की अफवाह वे फैला रहे हैं, जिनका विज्ञान से कोई लेना-देना नहीं है. आज देश के वैज्ञानिकों को सामने आकर आम जनता को यह बताने की आवश्यकता है कि हमारे खाने में कीटनाशकों के अवशेष नहीं हैं और यह पूरी तरह सुरक्षित है."

और खबरों के लिए क्लिक करें




Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com





Comments

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

NDTV Food Hindi से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन और Twitter पर फॉलो करें... साथ ही पाएं ताजा फूड खबरें , चटपटे जायके, हेल्थ टिप्स, ब्यूटी के कारगर नुस्खे और टिप्स और फूड एंड ड्रिंक से जुड़ी खबरें भी.
Tags:  Indian Food

Advertisement
ताजा लेख
Advertisement